सीएसआईआर की डायबिटीज की दवा को सरकार ने बताया प्रभावी सीएसआईआर की डायबिटीज की दवा को सरकार ने बताया प्रभावी

03 Aug , 2016


BGR-34 Latest Reviews
डायबिटीज की भारत में विकसित की गई दवा "बीजीआर-34" काफी प्रभावी साबित हो रही है।

जागरण ब्यूरो, नई दिल्ली। केंद्रीय आयुष मंत्री श्रीपाद यशो नाईक ने दावा किया है कि डायबिटीज की भारत में विकसित की गई दवा "बीजीआर-34" काफी प्रभावी साबित हो रही है। उनका कहना है कि इसी तर्ज पर अब मलेरिया, त्वचा रोग और मानसिक बीमारियों के लिए भी जड़ी-बूटियों पर आधारित दवाएं विकसित की जा रही हैं। जल्दी ही इनके नतीजे भी सामने आ सकेंगे।

नाईक ने राज्यसभा में पूछे गए एक सवाल के जवाब में मंगलवार को बताया कि वैज्ञानिक और औद्योगिक अनुसंधान परिषद (सीएसआइआर) की ओर से विकसित की गई "बीजीआर-34" पर बहुत अच्छी प्रतिक्रिया मिली है। अधिकांश मरीजों में ब्लड ग्लूकोज की मात्रा नियंत्रित करने में यह काफी मददगार साबित हो रही है। उन्होंने यह भी बताया कि उत्तर प्रदेश, बिहार, राजस्थान और मध्य प्रदेश सहित देश के अधिकांश राज्यों में यह दवा आसानी से उपलब्ध है। साथ ही इसे ऑनलाइन शॉपिंग के जरिए भी उपलब्ध करवाया जा रहा है।

सीएसआइआर की उत्तर प्रदेश स्थित दो प्रयोगशालाओं राष्ट्रीय वनस्पति विज्ञान संस्थान (एनबीआरआइ) और केंद्रीय औषधीय व सुगंधित पादप संस्थान (सीआइएमपी) ने यह दवा तैयार की है। सीएसआइआर का कहना है कि जड़ी-बूटी आधारित होने की वजह से इस दवा का साइड इफेक्ट नहीं है। इसकी मदद से डायबिटीज के मरीजों की एलोपैथिक दवाओं पर निर्भरता को दूर किया जा सकता है।

Source:Denik jagran


BGR-34 Latest Reviews
डायबिटीज की भारत में विकसित की गई दवा "बीजीआर-34" काफी प्रभावी साबित हो रही है।

जागरण ब्यूरो, नई दिल्ली। केंद्रीय आयुष मंत्री श्रीपाद यशो नाईक ने दावा किया है कि डायबिटीज की भारत में विकसित की गई दवा "बीजीआर-34" काफी प्रभावी साबित हो रही है। उनका कहना है कि इसी तर्ज पर अब मलेरिया, त्वचा रोग और मानसिक बीमारियों के लिए भी जड़ी-बूटियों पर आधारित दवाएं विकसित की जा रही हैं। जल्दी ही इनके नतीजे भी सामने आ सकेंगे।

नाईक ने राज्यसभा में पूछे गए एक सवाल के जवाब में मंगलवार को बताया कि वैज्ञानिक और औद्योगिक अनुसंधान परिषद (सीएसआइआर) की ओर से विकसित की गई "बीजीआर-34" पर बहुत अच्छी प्रतिक्रिया मिली है। अधिकांश मरीजों में ब्लड ग्लूकोज की मात्रा नियंत्रित करने में यह काफी मददगार साबित हो रही है। उन्होंने यह भी बताया कि उत्तर प्रदेश, बिहार, राजस्थान और मध्य प्रदेश सहित देश के अधिकांश राज्यों में यह दवा आसानी से उपलब्ध है। साथ ही इसे ऑनलाइन शॉपिंग के जरिए भी उपलब्ध करवाया जा रहा है।

सीएसआइआर की उत्तर प्रदेश स्थित दो प्रयोगशालाओं राष्ट्रीय वनस्पति विज्ञान संस्थान (एनबीआरआइ) और केंद्रीय औषधीय व सुगंधित पादप संस्थान (सीआइएमपी) ने यह दवा तैयार की है। सीएसआइआर का कहना है कि जड़ी-बूटी आधारित होने की वजह से इस दवा का साइड इफेक्ट नहीं है। इसकी मदद से डायबिटीज के मरीजों की एलोपैथिक दवाओं पर निर्भरता को दूर किया जा सकता है।

Source:Denik jagran

Leave a Reply

  • Posted On September 02, 2016 by Jajju

    I think we can trust on this medicine.its first India mad ayurvedic medicine for diabetes mellitus . we should go for this!!!!

  • Posted On August 31, 2016 by Manish Paul

    BGR-34 is a new hope for Type 2 diabetes mellitus and its work like a Rambaan. Diabetes Patients can start immediately BGR-34 without any hesitation.

  • Posted On August 24, 2016 by NGandhi

    Great job done by CSIR !!! BGR-34 is very effective medicine ……………

  • Posted On August 12, 2016 by Ranjan Raju

    Medicine is very effective and good for diabetes patients as per my opinion but delivery process was very poor i had order buy sneapdeal..

  • Posted On August 03, 2016 by Ashish

    This medicine is like a Miracle medicine for Diabetic Patients. It helps effectively by maintaining normal blood glucose levels

All blog comments are checked prior to publishing